Arya Samaj Ki Paribhasha, आर्य समाज की परिभाषा

आज हम जानेंगे की Arya Samaj Ki Paribhasha | आर्य समाज की परिभाषा दीजिये | आर्य समाज का अर्थ | आर्य समाज क्या है | आर्य समाज की स्थापना के बारे ने बताने वाले है.

Arya Samaj Ki Paribhasha- आर्य समाज की परिभाषा

आज हम जानने वाले है की आर्य समाज क्या है और आर्य समाज किसे कहते है तो आपको हम यंहा पर आर्य समाज की विशेषताए आपको नीचे बताने वाले है.

आर्य’ का अर्थ है भद्र और ‘समाज’ का अर्थ है सभा। इसलिए, आर्य समाज का अर्थ है ” भद्र लोगों का समाज” या “शूरवीरों की सभा”।

Arya Samaj Ki Paribhasha
Arya Samaj Ki Paribhasha, आर्य समाज की परिभाषा

आर्य समाज एक हिंदू सुधारवादी आंदोलन है। इस समाज का उद्देश्य वैदिक धर्म की पुनर्स्थापना करना, जाति बंधनों को तोड़ना और संपूर्ण हिंदू समाज को एकजुट करना है।

आर्य समाज के लोग जाति प्रथा, छुआछूत, अंधभक्ति, मूर्ति पूजा, बहुदेववाद, अवतारवाद, पशुबलि, श्राद्ध, यंत्र, तंत्र-मंत्र, मिथ्या कर्मकांड आदि के सख्त खिलाफ हैं।

आर्य समाज के लोग पुराणों की अवधारणा को न मानकर एकेश्वरवाद में विश्वास रखते हैं।

आर्य समाज के अनुसार ब्रह्मा नामक एक ही ईश्वर है। सभी हिंदुओं को उस एक ब्रह्म को ही मानना ​​चाहिए। देवी-देवताओं की पूजा नहीं करनी चाहिए।

आर्य समाज की स्थापना किसने की –

आर्य समाज की स्थापना 1875 में स्वामी दयानंद सरस्वती (1824-83) ने की थी। उन्होंने संस्कृत में उत्कृष्टता हासिल की लेकिन अंग्रेजी का अध्ययन कभी नहीं किया था।

Arya Samaj Ki Paribhasha, आर्य समाज की परिभाषा
आर्य समाज की परिभाषा

आर्य समाज का धार्मिक केंद्र और राजधानी लाहौर में थी, हालाँकि स्वामी दयानंद की निर्वाण स्थली और वैदिक प्रेस की उपस्थिति के कारण अजमेर लाहौर का प्रतिद्वंद्वी था। लाहौर के पाकिस्तान में चले जाने के बाद आर्य समाज का मुख्य केन्द्र आज दिल्ली है।

आर्य समाज का सबसे अधिक प्रभाव पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में देखने को मिलता है।

उन्होंने घोषणा की, “वेदों की ओर वापस जाओ।” वे पुराणों के बारे में बहुत कम सोचते थे। मथुरा में, स्वामी ने एक अंधे शिक्षक स्वामी विरजानंद के मार्गदर्शन में वेदांत का अध्ययन किया। उनकी राय राम मोहन राय से तुलनीय थी।

आर्य समाज के सामाजिक आदर्शों में लैंगिक समानता, पुरुषों और महिलाओं के साथ-साथ राष्ट्रों के बीच पूर्ण न्याय और निष्पक्ष खेल शामिल हैं, लेकिन ये इन्हीं तक सीमित नहीं हैं।

इसके अलावा विधवा पुनर्विवाह और अंतरजातीय मिलन को भी प्रोत्साहित किया गया।

आर्य समाज के सिद्धांत-

  • समस्त सच्चा ज्ञान ईश्वर से उत्पन्न होता है।
  • धर्म, या अच्छे और बुरे की जानबूझकर जांच, सभी प्रयासों का सर्वोच्च सिद्धांत होना चाहिए।
  • वेद ज्ञान की सच्ची पुस्तकें हैं।
  • सर्वज्ञ, सर्वशक्तिमान, अनादि तथा सृष्टि का रचयिता होने के कारण ईश्वर ही उपासना के योग्य है।
  • ज्ञान को बढ़ाना चाहिए और अज्ञान को दूर करना चाहिए।
  • आर्य को सदैव सत्य के ग्रहण और असत्य के त्याग में तत्पर रहना चाहिये।
  • सोसायटी का मुख्य उद्देश्य वैश्विक स्तर पर शारीरिक, आध्यात्मिक और सामाजिक कल्याण को बढ़ावा देना है।
  • किसी भी व्यक्ति के हितों से पहले संपूर्ण मानवता के हित आने चाहिए।
  • सभी लोगों के प्रति निष्पक्ष एवं दयालु व्यवहार उचित है।
  • किसी एक की प्रगति अन्य सभी की प्रगति पर निर्भर होनी चाहिए।

आर्य समाज की विशेषताए-

  • आर्य समाज में वेदों को सभी ज्ञान और सत्य पर अंतिम प्रमाण के रूप में स्वीकार करता है और उन्हें अचूक मानता है।
  • आर्य समाज में वैदिक धर्म के भ्रष्टाचार के लिए पुराणों और अन्य उत्तर-वैदिक साहित्य को जिम्मेदार ठहराया गया।
  • आर्य समाज में “कर्म” और आत्मा के स्थानांतरण की अवधारणाओं को स्वीकार करता है लेकिन ईश्वर के पंथ और पुनर्जन्म के विचार को अस्वीकार करता है।
  • आर्य समाज में केवल एक ही ईश्वर को स्वीकार करें जिसका कोई भौतिक अस्तित्व नहीं है।
  • आर्य समाज में हिंदू सामाजिक और आध्यात्मिक जीवन पर ब्राह्मण आधिपत्य को अस्वीकार करता है।
  • आर्य समाज की चार वर्ण व्यवस्था का समर्थन किया, लेकिन उनका मानना ​​था कि प्रतिभा को जन्म से अधिक प्राथमिकता मिलनी चाहिए।
  • आर्य समाज की हिंदुओं के सामाजिक और आध्यात्मिक जीवन में समान दर्जा प्राप्त है।
  • आर्य समाज ने महिलाओं की सामाजिक समानता पर जोर दिया।
  • आर्य समाज में महिलाओं के प्रति किसी भी प्रकार के लैंगिक भेदभाव के लिए कोई जगह नहीं है।
  • आर्य समाज में विधवा पुनर्विवाह और महिला शिक्षा को बढ़ावा देते हुए बहुविवाह, बाल विवाह, सती और अन्य प्रथाओं का विरोध किया।
  • आर्य समाज में संस्कृत और हिन्दी का प्रचार-प्रसार किया।
  • आर्य समाज में पशु बलि, धार्मिक तीर्थयात्रा, श्राद्ध (मृतकों को खिलाना), मंत्र और ताबीज और अन्य सामाजिक-धार्मिक अपराध निषिद्ध हैं।

यह भी पढ़े –

निकर्ष

  • जैसा की आज हमने आपको Arya Samaj Ki Paribhasha, आर्य समाज की परिभाषा जानकारी के बारे में आपको बताया है.
  • इसकी सारी प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप बताई है उसे आप फोलो करते जाओ निश्चित ही आपकी समस्या का समाधान होगा.
  • यदि फिर भी कोई संदेह रह जाता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट कर सकते और पूछ सकते की केसे क्या करना है.
  • में निश्चित ही आपकी पूरी समस्या का समाधान निकालूँगा और आपको हमारा द्वारा प्रदान की गयी जानकरी आपको अच्छी लगी होतो फिर आपको इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है.
  • यदि हमारे द्वारा प्रदान की सुचना और प्रक्रिया से लाभ हुआ होतो हमारे BLOG पर फिर से VISIT करे

Leave a Comment