Naitik Shiksha Ki Paribhasha, नैतिक शिक्षा का परिभाषा

आज हम जानेंगे की Naitik Shiksha Ki Paribhasha | नैतिक शिक्षा का परिभाषा | naitik Shiksha Kya Hai | Naitik Shiksha In Hindi | के बारे में बताने वाले है.

Naitik Shiksha Ki Paribhasha- नैतिक शिक्षा का परिभाषा

अब हम जानेंगे की Naitik Shiksha kise kehte hai | naitik shiksha ka matlab | नैतिक शिक्षा का अर्थ | definition of Naitik Shiksha in hindi के बारे में आपको बताने वाले है.

Naitik Shiksha Ki Paribhasha
Naitik Shiksha Ki Paribhasha

नैतिकता या नैतिकता का मतलब है वह अच्छा व्यवहार या कर्तव्य जिसकी हम हमेशा दूसरों से अपेक्षा करते हैं। नैतिक शिक्षा का उद्देश्य मानवीय मूल्यों का विकास होना चाहिए।

अतः हम कह सकते हैं कि नैतिक शिक्षा वह शिक्षा है, जो कि समाज के प्रत्येक व्यक्ति सम्पूर्ण समाज तथा देश का हित कर करती है और देश और समाज में मनुष्य के अंदर नैतिक गुणों का विकास करती है वह नैतिक शिक्षा कहते है.

नैतिक शिक्षा का के द्वारा मानवीय मूल्यों का विकास आवश्यकता की पूर्ति के लिए हमारे समाज वैज्ञानिकों ने नई शिक्षा नीति में नैतिक शिक्षा को महत्वपूर्ण स्थान दिया है।

नैतिक शिक्षा का मनुष्य के अंदर नैतिक गुणों का विकास करें ताकि वह मानवता और स्वयं को सही रास्ते पर ले जा सके।

परिवार के सदस्य बच्चे को बचपन से ही नैतिक मूल्यों से अवगत कराते हैं। जैसे-जैसे उसका शिक्षा स्तर बढ़ता जाता है। उसके मूल्यों का विस्तार करना आवश्यक है।

नैतिक शिक्षा का सिखाते हैं कि उसे समाज में, बड़ों के साथ, अपने दोस्तों के साथ और अन्य लोगों के साथ कैसा व्यवहार करना चाहिए।

नैतिक शिक्षा का परिभाषा
नैतिक शिक्षा का परिभाषा

नैतिक शिक्षा के मुख्य उद्देश्य-

शारीरिक एवं मानसिक शक्तियों का विकास

नैतिक शिक्षा का उद्देश्य बच्चे की शारीरिक और मानसिक क्षमताओं जैसे शरीर, दिमाग, स्मृति, दृढ़ संकल्प और निर्णय लेने की शक्ति, कल्पना और सोच आदि का विकास करना है।
बच्चों के नैतिक विकास के लिए उनकी मानसिक क्षमताओं का विकास करना आवश्यक है।

इंद्रियों का प्रशिक्षण

इस शिक्षा का एक मुख्य उद्देश्य बच्चे की आँख, कान आदि ज्ञानेन्द्रियों को प्रशिक्षित करना है।
जब बच्चे की इन्द्रियाँ प्रशिक्षित होंगी तभी उसका पर्याप्त नैतिक विकास संभव होगा।

तर्क शक्ति का विकास-

नैतिक शिक्षा बच्चे की मानसिक क्षमताओं के विकास के बाद तर्क क्षमता का विकास होना चाहिए।
तर्क शक्ति से बच्चा चारित्रिक एवं नैतिक विकास की ओर आगे बढ़ सकेगा।

नैतिकता का विकास-

शिक्षा का उद्देश्य बालक में नैतिकता का विकास करना है। नैतिकता का संबंध तीन चीज़ों से है: बच्चे का स्वभाव, बच्चे की आदतें और बच्चे की भावनाएँ।
इन तीनों को सुधारने और संवारने से बच्चे के व्यवहार में बदलाव लाना संभव होगा।

आध्यात्मिक विकास-

नैतिक शिक्षा का मुख्य उद्देश्य बालक का आध्यात्मिक विकास भी है।
आध्यात्मिक विकास के लिए चेतना की शुद्धि नितांत आवश्यक है।
शिक्षा का मुख्य उद्देश्य बच्चे की विकासशील आत्मा को विकसित करना, उसमें सर्वश्रेष्ठ लाना और उसे सर्वोत्तम कार्य के लिए तैयार करना है।”

नैतिक शिक्षा के अन्य उद्देश्य-

  • नैतिक शिक्षा का उद्देश्य देश में समाजवादी समाज की स्थापना से सम्बंधित होना चाहिए।
  • इससे हम समतामूलक एवं न्यायपूर्ण समाज की स्थापना कर सकेंगे।
  • नैतिक शिक्षा का उद्देश्य राष्ट्र के विभिन्न धर्मों, वर्गों एवं सम्प्रदायों के लोगों में भावनात्मक एकता की भावना विकसित करना होना चाहिए।
  • आपका उद्देश्य बच्चों में नेतृत्व के गुण विकसित करना होना चाहिए ताकि भारतीय लोकतंत्र मजबूत हो।
  • निःस्वार्थ कर्म की प्रेरणा देना भी नैतिक शिक्षा का लक्ष्य होना चाहिए।
    इससे बच्चों में निस्वार्थ प्रेम और समाज सेवा की भावना पैदा होती है।
  • नैतिक शिक्षा का लक्ष्य योग्य चरित्रवान नागरिकों का निर्माण करना है ताकि लोकतांत्रिक समाज और शासन व्यवस्था सुचारु रूप से कार्य कर सके।
  • नैतिक शिक्षा का एक अन्य महत्वपूर्ण उद्देश्य जाति प्रथा, बाल विवाह, दहेज प्रथा, छुआछूत, साम्प्रदायिकता आदि सामाजिक बुराइयों को समाप्त करना है।

नैतिक शिक्षा का महत्व –

जैसा की हमने आपको ऊपर नैतिक शिक्षा के उद्देश्य के बारे में बताया है और अब हम आपको बताने वाले है की नैतिक शिक्षा महत्त्व जीवन में कितना है जिसे हमने नीचे आपको बताने जा रहे है जो इस प्रकार से है –

नैतिक शिक्षा का महत्व

यह भी पढ़े –

Shiksha Ki Paribhasha, शिक्षा की परिभाषा

Sharirik Shiksha Ki Paribhasha, शारीरिक शिक्षा की परिभाषा

Prathmik Shiksha Ki Paribhasha, प्राथमिक शिक्षा की परिभाषा

Buniyadi Shiksha Ki Paribhasha, बुनियादी शिक्षा की परिभाषा

निकर्ष-

  • जैसा की आज हमने आपको Naitik Shiksha Ki Paribhasha, नैतिक शिक्षा का परिभाषा जानकारी के बारे में आपको बताया है.
  • इसकी सारी प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप बताई है उसे आप फोलो करते जाओ निश्चित ही आपकी समस्या का समाधान होगा.
  • यदि फिर भी कोई संदेह रह जाता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट कर सकते और पूछ सकते की केसे क्या करना है.
  • में निश्चित ही आपकी पूरी समस्या का समाधान निकालूँगा और आपको हमारा द्वारा प्रदान की गयी जानकरी आपको अच्छी लगी होतो फिर आपको इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है.
  • यदि हमारे द्वारा प्रदान की सुचना और प्रक्रिया से लाभ हुआ होतो हमारे BLOG पर फिर से VISIT करे.

5 thoughts on “Naitik Shiksha Ki Paribhasha, नैतिक शिक्षा का परिभाषा”

Leave a Comment