UPMA Alankar Ki Paribhasha, उपमा अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित

आज हम जानेगे की UPMA Alankar Ki Paribhasha | उपमा अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित | UPMA Alankar Ke Prakar इसी प्रकार की परिभाषा और सीखे.

UPMA Alankar Ki Paribhasha-

आज हम जानेंगे की UPMA Alankar kya hai | definition of upma alankar in hindi | UPMA Alankar kise kehte hai or उपमा अलंकार का अर्थ जानने वाले है-

उपमा शब्द का मतलब होता तुलना है। जब किसी व्यक्ति या वस्तु की तुलना किसी दूसरे व्यक्ति या वस्तु से की जाती है तब वहाँ पर उपमा अलंकार होता है।

या जहाँ गुण धर्म या क्रिया के आधार पर उपमेय की तुलना उपमान से की जाती है। जिस एक वस्तु की समानता या तुलना की जाए, किसी दूसरी वस्तु से, वहाँ उपमा अलंकार होता है।

उपमा अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित- example of upma alankar in hindi

अब आपको हम यंहा पर upma alankar ke udaharan स्पष्टीकरण के साथ बताने वाले है-

जैसे – सागर-सा गंभीर हृदय हो,
गिरि सा ऊँचा हो जिसका मन

इस उदाहरण में सागर (उपमान) के समान गंभीर हृदय (उपमेय) और गिरि (पर्वत) के सामान मन (उपमेय) की तुलना की गयी है।

कर कमल-सा कोमल हैं

उपर दिए गए उदाहरण में कर-उपमेय है, कमल-उपमान है, कोमल-साधारण धर्म है एवं सा-वाचक शब्द है।
जब किन्ही दो वस्तुओं की उनके एक सामान धर्म की वजह से तुलना की जाती है तब वहां उपमा अलंकार होता है।

हरि पद कोमल कमल

उपर दिए गए उदाहरण में हरि के पैरों कि तुलना कमल के फूल से की गयी है। हरि के चरणों को कमल के फूल के जैसे कोमल बताया गया है।

उदाहरण

UPMA Alankar Ki Paribhasha

उदाहरण

उपमा अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित

उदाहरण

उपमा अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित-

उपमा अलंकार के अंग-

उपमा अलंकार के मुख्य चार अंग है जो एक उपमा अलंकार के लिए आवश्यक होते हैं।

  • उपमेय
  • उपमान
  • वाचक शब्द
  • साधारण धर्म

उपमेय :- उपमेय का मतलब होता है – उपमा देने के योग्य। यदि जिस वस्तु की समानता किसी दूसरी वस्तु से की जाये तब वहाँ पर उपमेय होता है।

उपमान :- उपमेय की उपमा जिस से दी जाती है उसे उपमान कहते हैं। अथार्त उपमेय की जिसके साथ समानता बताई जाती है उसे उपमान कहते हैं।

साधारण धर्म :- दो वस्तुओं के बीच समानता दिखाने के लिए जब किसी ऐसे गुण या धर्म की सहायता ली जाती है जो दोनों में वर्तमान स्थिति में हो उसी गुण या धर्म को साधारण धर्म कहते हैं।

वाचक शब्द :- जब उपमेय और उपमान में समानता दिखाई जाती है तब उस समय जिस शब्द का प्रयोग किया जाता है उसे वाचक शब्द कहते हैं।

UPMA Alankar Ke Prakar-

उपमा अलंकार दो प्रकार होते हैं।

  1. पूर्णोपमा अलंकार
  2. लुप्तोपमा अलंकार

1-पूर्णोपमा अलंकार-

जिस उपमा अलंकार में उपमा के सभी अंग उपस्थित होते हैं जैसे उपमेय, उपमान, वाचक शब्द, साधारण धर्म आदि अंग होते हैं वहाँ पर पूर्णोपमा अलंकार होता है।

उदाहरण-

सागर-सा गंभीर ह्रदय हो,
गिरी-सा ऊँचा हो जिसका मन।

उदाहरण

‘राधा बदन चंद सो सुंदर’

उपर दिए गए उदाहरण में पंक्ति में पूर्णोपमा अलंकार है क्योंकि इसमें चारों अंग उपमेय (राधा बदन), उपमान (चंद), वाचक शब्द (सो) एवं सामान्य गुण धर्म (सुन्दर) मौजूद है

2-लुप्तोपमा अलंकार-

जिस उपमा अलंकार में उपमा के चारों अंगों में से यदि एक या दो का या फिर तीन उपस्थित न हो तब वहाँ पर लुप्तोपमा अलंकार होता है।

उदाहरण

कल्पना सी अतिशय कोमल।

उपर दिए गए उदाहरण में उपमेय उपस्थित नहीं है तो इसलिए यह लुप्तोपमा का उदहारण है।

‘मुख सा चन्द्र है

उपर दिए गए उदाहरण में ‘मुख सा चन्द्र है’ पंक्ति में लुप्तोपमा अलंकार है क्योंकि इसमें चारों अंग उपमेय (मुख), उपमान (चन्द्रमा), वाचक शब्द (सा) एवं सामान्य गुण (लुप्त) धर्म में से सामान्य गुणधर्म गायब है.

यह भी पढ़े –

Alankar Ki Paribhasha Udaharan Sahit, अलंकार की परिभाषा

Shlesh Alankar Ki Paribhasha, श्लेष अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित

Virodhabhash Alankar Ki Paribhasha, विरोधाभाष अलंकार की परिभाषा

Sandeh Alankar Ki Paribhasha, संदेह अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित

Punrukti Alankar Ki Paribhasha, पुनरुक्ति अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित

Atishyokti Alankar Ki Paribhasha Udaharan Sahit, अतिशयोक्ति अलंकार

Utpreksha Alankar Ki Paribhasha, उत्प्रेक्षा अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित

Anupras Alankar Ki Paribhasha, अनुप्रास अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित

Yamak Alankar Ki Paribhasha, यमक अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित

UPMA Alankar Ki Paribhasha, उपमा अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित

Anupras Alankar Ki Paribhasha, अनुप्रास अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित

Rupak Alankar Ki Paribhasha, रूपक अलंकार की परिभाषा उसके प्रकार उदाहारण सहित हिंदी में.

Manvikaran Alankar Ki Paribhasha उदाहरण सहित

Bhrantiman Alankar Ki Paribhasha, भ्रांतिमान अलंकार की परिभाषा हिंदी में.

निकर्ष-

  • जैसा की आज हमने आपको UPMA Alankar Ki Paribhasha, उपमा अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित ,UPMA Alankar Ke Prakar जानकारी के बारे में आपको बताया है.
  • इसकी सारी प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप बताई है उसे आप फोलो करते जाओ निश्चित ही आपकी समस्या का समाधान होगा.
  • यदि फिर भी कोई संदेह रह जाता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट कर सकते और पूछ सकते की केसे क्या करना है.
  • में निश्चित ही आपकी पूरी समस्या का समाधान निकालूँगा और आपको हमारा द्वारा प्रदान की गयी जानकरी आपको अच्छी लगी होतो फिर आपको इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है.
  • यदि हमारे द्वारा प्रदान की सुचना और प्रक्रिया से लाभ हुआ होतो हमारे BLOG पर फिर से VISIT क

16 thoughts on “UPMA Alankar Ki Paribhasha, उपमा अलंकार की परिभाषा उदाहरण सहित”

Leave a Comment