Akarmak Kriya Ki Paribhasha, अकर्मक क्रिया की परिभाषा

आज हम जानेगे की Akarmak Kriya Ki Paribhasha | अकर्मक क्रिया की परिभाषा उदाहरण सहित | Akarmak Kriya Definition In Hindi | Akarmak Kriya Ka Arth Aur Prakar | के बारे में बताने वाले है.

Akarmak Kriya Ki Paribhasha-

आज हम आपको AkarmakKriya Kya Hoti Hai | अकर्मक क्रिया किसे कहते है | Definition Of Akarmak Kriya In Hindi | अकर्मक क्रिया का अर्थ आपको बताने वाले है-

अकर्मक क्रिया दो शब्दों से मिलकर बना है अ+ कर्म. यानी कि जिसमें कर्म का अभाव होता है.
दूसरे शब्दों में समझे तो जब किसी वाक्य में कर्ता हो और क्रिया भी हो लेकिन कर्म ना हो तो वहां पर अकर्मक क्रिया होती है.

अर्ताथ जब किसी वाक्य में जिस क्रिया के प्रयोग में कर्म की अपेक्षा नहीं होती, उसे अकर्मक क्रिया कहते हैं अकर्मक क्रियाओं का फल सीधा कर्ता पर ही पड़ता है.

अकर्मक क्रिया की परिभाषा

जैसे
प्रताप दौड़ता है।
इस वाक्य में क्रिया का पूरा प्रभाव केवल प्रताप पर पड़ रहा है। जिस वजह से यह अकर्मक क्रिया है।

Akarmak Kriya Ki Paribhasha

अकर्मक क्रिया के पहचान कैसे करे –

यदि क्या, किसे या किसको आदि प्रश्न करने से उनके उत्तर हमें प्राप्त नहीं होते हैं तो वह अकर्मक क्रिया होगी.
वहीं अगर उन प्रश्नों का उत्तर हमें मिल जाता है तो यह सकर्मक क्रिया होगी.

अकर्मक क्रिया के प्रकार –

अकर्मक क्रिया दो प्रकार की होती है –

  1. अपूर्ण अकर्मक क्रिया
  2. पूर्ण अकर्मक क्रिया

अपूर्ण अकर्मक क्रिया-

जब किसी वाक्य में क्रिया के साथ संज्ञा या विशेषण शब्दों का प्रयोग कहते हुए कर्ता के विषय में पूर्ण विधान किया जता है , तो उसे अपूर्ण क्रिया कहते है। इस क्रिया का प्रयोग संज्ञा या विशेषण शब्द को पूर्ण करने के लिए प्रयुक्त किया जाता है।

अपूर्ण अकर्मक क्रिया के उदाहरण –
  • वह अच्छा है।
  • वह बीमार है।
  • वह नया मुख्यमंत्री बन गया।
  • मोहन चोर निकला।
  • सीमा एक होशियार लड़की है।
  • रमेश मेहनती है।
  • कड़ाके की ठंड ठहर गई।
  • आशा एक अच्छी लड़की है।

ऊपर दिए गए उदाहरण में अच्छा, बीमार, चोर, मेहनती आदि शब्द अपूर्ण है।

पूर्ण अकर्मक क्रिया-

ऐसे वाक्य जिसमे क्रिया के साथ न तो ‘कर्म’ और न ही किसी पूर्ण शब्द / पूरक शब्द की आवश्यकता होती है, तो उसे ही पूर्ण अकर्मक कहते है। यह क्रिया वास्तविक रूप से पूर्ण होती है।

पूर्ण अकर्मक क्रिया के उदाहरण-
  • श्याम दिनभर नहीं नहाया।
  • पंछी आकाश में उड़ती है।
  • वह रात भर नहीं सोया।
  • हवाई जहाज़ आकाश में उड़ता है।
  • निधि नाच रही है।
  • शिवम स्टेज पर गा रहा है।
  • वह जल्दी नहाता है।
  • खूब सारे पक्षी आसमान में उड़ते हैं।
  • रोहन खा रहा है।
  • विमान ऊंची उड़ान भरता है।
Akarmak Kriya Ke Udaharan

अकर्मक क्रिया की परिभाषा उदाहरण सहित- Akarmak Kriya Ke Udaharan

  • नीरज खाता है।
  • बच्चे उछल रहे हैं।
  • मोहन रोता है।
  • मीरा चलती है।
  • वन घट रहे हैं।
  • वह पानी से नहाता है।
  • पहले वर्ष में बच्चे तेजी से बढ़ते हैं।
  • पेड़ धीरे-धीरे बढ़ता है।
  • वह हर वसंत में फूल उगाता है।
  • मैं एक घंटे तक बाथटब में भीगती रही।
  • पापा पीठ खुजला रहे हैं।
  • गीता एक ईमानदार महिला थी।
  • मंत्री लिख रहा है।
  • पृथ्वी डोल रही है।
  • सुरेश बेईमान निकला।
  • तोता उड़ता है।
  • नरेश पी रहा है।
  • आप मेरे भाई ठहरे।
  • वह व्यक्ति गरीब दिखता है।
  • तारें चमकते हैं।
  • वह मर रहा है।
  • टीचर बरसती है।
  • सांप डसता है।
  • रेलगाड़ी चलती है।
  • दुल्हन शर्मा आ रही है।
  • कुत्ते भौंकते हैं।
  • यह साइकिल चलती है।
  • गाय डरती है।

सकर्मक क्रिया और अकर्मक क्रिया में अंतर क्या है –

सकर्मक क्रियाअकर्मक क्रिया
जिस क्रिया का फल कर्ता पर पड़े उसे अकर्मक क्रिया कहते हैंजिस क्रिया का फल कर्म पर पड़े उसे सकर्मक क्रिया कहते हैं।
सकर्मक क्रिया के वाक्यों से प्रश्न करने पर उससे उत्तर मिलता हैअकर्मक क्रिया के प्रश्नों से कोई उत्तर नहीं मिलता है।
सकर्मक क्रिया में कर्म, क्रिया और कर्ता तीनों होते हैंअकर्मक क्रिया में करने वाला और क्रिया तो होती है लेकिन कर्म नहीं होता।
हरि आम खाता है, तुम सच बोलते हो इत्यादि सकर्मक क्रिया के उदाहरण हैवह दौड़ता है, वह खाता है इत्यादि अकर्मक क्रिया के उदाहरण है।

यह भी पढ़े –

Sakarmak Kriya Ki Paribhasha, सकर्मक क्रिया की परिभाषा

Kriya Ki Paribhasha, क्रिया की परिभाषा उदाहरण सहित

Samas Ki Paribhasha, समास की परिभाषा उदहारण सहित

Sangya Ki Paribhasha, संज्ञा की परिभाषा उदाहरण सहित

Visheshan Ki Paribhasha, विशेषण की परिभाषा उदाहरण सहित

निकर्ष-

  • जैसा की आज हमने आपको Akarmak Kriya Ki Paribhasha, Akarmak Kriya Ke Udaharan, non Transitive Verb Examples In Hindi, जानकारी के बारे में आपको बताया है.
  • इसकी सारी प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप बताई है उसे आप फोलो करते जाओ निश्चित ही आपकी समस्या का समाधान होगा.
  • यदि फिर भी कोई संदेह रह जाता है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट कर सकते और पूछ सकते की केसे क्या करना है.
  • में निश्चित ही आपकी पूरी समस्या का समाधान निकालूँगा और आपको हमारा द्वारा प्रदान की गयी जानकरी आपको अच्छी लगी होतो फिर आपको इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है.
  • यदि हमारे द्वारा प्रदान की सुचना और प्रक्रिया से लाभ हुआ होतो हमारे BLOG पर फिर से VISIT करे.

2 thoughts on “Akarmak Kriya Ki Paribhasha, अकर्मक क्रिया की परिभाषा”

Leave a Comment